कहानी 10 पैकेट से 100 करोड़ डॉलर की



आज हम बात करने जा एक ऐसे आदमी की जिसने जॉब करने के साथ-साथ अपना व्यापार शुरू किया और मध्यम वर्ग को ध्यान में रखकर बाजार से सस्ता प्रोडक्ट बनाया और साईकिल से घर-घर घुम कर अपने प्रोडक्ट को बेचा। उस व्यक्ति को अपने प्रोडक्ट पर इतना विशवास था कि उसने गांरटी दी की यदि प्रोडक्ट काम नहीं करेगा तो आपके पैसे वापस।
Sucess of Karshanbhai Patel - Frounder of Nirma
Nirma Washing Powder Story in Hindi

जी हॉं यह हस्ती है गुजरात के करसनभाई पटेल और वो प्रोडक्ट है निरमा वाशिंग पाउडर----
करसनभाई पटेल का जन्म 1944 में मेहसाना, गुजरात के एक किसान परिवार में हुआ। उन्होने रसायन शास्त्र में स्नातक की शिक्षा हासिल कि और अहमदाबाद में एक लैब असिसटेंट के रूप में काम किया। रसायन में स्नातक और रसायन क्षे़त्र में नौकरी होने से से उन्हे रसायन का पर्याप्त अनुभव था। इसलिए अपनी जॉब के साथ-साथ उन्होने कुछ अलग करने का निश्चय किया और अपनी देखा कि बाजार में जितने भी वाशिंग पाउडर है वो विदेशी और बहुत महंगे है।

इसके लिए करसनभाई ने अपने एक वाशिंग पाउडर बनाया, जो मध्यम वर्ग को ध्यान में रखकर था। जिसका नाम करसनभाई ने अपनी बेटी निरमा के नाम पर रखा और बन गया -निरमा वाशिंग पाउडर। जिसका दाम भी कम था और गुणवत्ता भी बेहतर थी। निरमा किमत थी मात्र 3 रूपये किलो जो अन्य विदेश प्रोडक्ट कि किमत से सिर्फ 25 प्रतिशत ही थी।
Karsanbhai Patel Success story in Hindi. Very impressive and Inspiring to Everyone.
Nirma Washing Powder Founder Karsanbhai Patel
शुरूआत में करसनभाई निरमा वाशिंग पाउडर को धर पर ही बनाते और उसे बेचने के लिए वे 10-20 पैकेट घर से लेकर निकलते और ऑफिस जाते समय और शाम को ऑफिस आते समय बेचते। ग्राहको का विश्वास बढ़ाने के लिए उन्होने साथ ही गांरटी दी की यदि यह पाउडर सही काम नहीं करता है तो आपके पैसे वापस। बस फिर क्या था लोगों का निरमा पंसद आया और धीरे-धीरे वो एक सफल प्रोडक्ट बन गया। और तीन साल में ही करसनभाई ने नोकरी छोड़कर अहमदाबाद में निरमा की एक छोटी फैक्ट्री लगा ली और कम समय में ही वह गुजरात महाराष्ट्र में पापुलर हो गया। इसके बाद करसन भाई ने निरमा को रेडियो टीवी विज्ञापन के माध्यम से भारत के घर-घर पहॅुंचा दिया।
प्रोडक्ट चल निकला और भारत में भारत का स्वदेशी वाशिंग पाउडर बिकने लगा। और आज निरमा कम्पनी में लगभग 14000 कर्मचारी काम करते है। और सालाना टर्नओवर लगभग 100 करोड़ डॉलर का है। एक रिपोर्ट के अनुसार निरमा वाषिंग पाउडर साल में 8 लाख टन बिकता है। वर्तमान बाजार में निरमा की भागीदारी लगभग 20% है।
इसके बाद निरमा ने उच्च आयवर्ग को ध्यान में रखकर कई प्रीमियम उत्पाद बनाये जिनमें निरमा बाथ, निरमा ब्यूटी शोप और सुपर निरमा डिटर्जेंट है। वर्तमान के बाजार में निरमा शुद्ध नमक बाजार में उपलब्ध है जो एक प्रसिद्ध ब्राण्ड है।
व्यापार के अलावा अन्य कार्यों जैसे शिक्षा के क्षेत्र को बढावा देने के लिए 1995 में करसन भाई ने अहमदाबाद में निरमा इंस्टिटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी की स्थापना की और साथ ही कई अन्य संस्थओं को बढावा दिया।
 
भारत के अलावा निरमा ने बांगलादेश, चीन आफ्रिका समेत कई देशों में अपने व्यापार को बढाया है। करसनभाई को भारतीय अर्थव्यवस्था में अपने योगदान को देखते हुए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। जिनमें उद्योग रत्न, उत्कृष्ट उद्योगपति आदि प्रमुख है।

दोस्तों ये थी आज की कहानी मुझे उम्मीद है की ये आपको पसंद आयी होगी और इससे आपका आत्मविश्वाश बढ़ेगा.
अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आते है, तो हमारी मेहनत सफल है.
कृपया इस कहानी को ज्यादा से ज्यादा लाइक करे, शेयर करे और कमेंट करें. आपका बहुत बहुत धन्यवाद

No comments