चांदनी चौक टू बॉलीवुड सुपरस्टार- Akshay Kumar




आज हम बात करेंगे ऐसे आदमी की जिसने अपने करियर की शुरूआत आम आदमी की तरह छोटे-मोटे काम करके की। अपना गुजारा चलाने के लिए बैंकाक में रसोईयें की नौकरी की। भारत में कई सालों तक छोटे-मोटे काम किये। लेकिन जैसे ही उन्हे कोई भी बड़ा या छोटा मौका मिला उसे उन्होने स्वीकार किया और उसका भरपुर फायदा उठाया। यही कारण है कि छोटे मौको को पाकर ही वे आज बालीवुड के सुपरस्टार बने। एक आम आदमी का बिना किसी बैकग्राउण्ड के, बिना की सपोर्ट के, सिर्फ अपनी मेहनत और लगन के दम पर बालीवुड का सुपरस्टार बनना कोई आम बात नहीं है।

अक्षय कुमार उर्फ राजीव भाटिया का जन्म पंजाब के अमृतसर में 09 सितम्बर 1967 को हुआ। उनके पिता का नाम हरिओम भाटिया है जो एक आर्मी मैन है। अक्षय की माँ का नाम अरूणा भाटिया और वो एक हाउसवाईफ है। उनकी एक बहन भी है जिसका नाम है अलका भाटिया। अक्षय का बचपन दिल्ली के चांदनी चैक में निकला है। वहीं पर अक्षय ने पढाई की है। अक्षय का मन पढाई में कम और खेलों में ज्यादा लगता था। इसलिए अक्षय की पढाई सिर्फ 12वीं तक ही हो सकी। 

12 वीं के बाद अक्षय ने बैंकाक जाकर मार्शल आर्ट सीखने का फैसला किया। लेकिन वहां पर अक्षय ने मार्शल आर्ट सीखने के साथ-साथ अपना गुजारा करने के लिए कई छोटे-मोटे काम किये। इन कामों में मुख्य रूप से शेफ की नौकरी है। अक्षय ने बैंकाक से ही मार्शल आर्ट की ट्रनिंग पूरी की इसके बाद वो भारत वापस गये। शुरूआत में अक्षय ने भारत आकर कई छोटे-मोटे काम किये जिसमें कोलकाता में नौकरी की, कुछ समय के लिए बांग्लादेश जाकर भी काम किया है। अब तक अक्षय कुमार बिना किसी मकसद के सिर्फ मेहनत से पैसा कमाने के लिए काम कर रहें थे।
 
फिर कुछ दिनों बाद वे मुम्बई आकर ज्वैलरी का काम करने लगे। इसके साथ-साथ वो खाली समय में कुछ लड़कों को मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग देते थे। अक्षय कुमार की लुक पर्सनेलटी काफी अच्छी थी। इसलिए उनके स्टुडेंट उन्हे बार-बार मॉडलिंग और फिल्मों में काम करने की सलाह देते थे। यही नहीं एक बार एक स्टुडेंट ने उनका नाम मॉडलिंग में दे दिया और अक्षय सिलेक्ट भी हो गये। 2 दिन में ही अक्षय ने इस फोटोशूट से इतना पैसा कमा लिया जितना वो महिने भर में भी नहीं कमा पाते थे। इसलिए उन्होने डिसाईड किया अब वे पैसा कमाने के लिए मॉडलिंग करेंगे और मॉडलिंग को ही अपना करियर बनायेंगे।
 
उन्होने कई छोटे-मोटे मॉडलिंग शूट किये। फिर उन्होने धीरे-धीरे फिल्मों का रूख किया। लेकिन वो जहां भी जाते ऑडिशन में लोग उनसे पोर्टफोलियों मांगते। उस समय अक्षय के पास इतने पैसे नहीं थे कि वे अपना पोर्टफोलिया तैयार करवा सकें। इसके लिए अक्षय ने मशहुर फोटोग्राफर रितेश से एक छोटी सी डील की उन्होने बतौर असिसटेंट उनके साथ काम किया और बदले में रितेश ने अक्षय का पोर्टफोलियों तैयार किया। साथ ही अक्षय ने अपनी एक्टिंग में सुधार करने के लिए एक्टिंग का भी डिप्लोमा हासिल किया।
 
अक्षय को 1987 में फिल्म आज के लिए एक छोटा सो रोल किया जिसमें उन्होने कराटे टीचर की भूमिका निभाई थी। उस फिल्म में उस टीचर का नाम अक्षय था। उससे इंसपायर होकर अक्षय ने अपना नाम अक्षय कुमार रख लिया।
एक बार अक्षय को फोटोशूट के लिए बैगलुर जाना था लेकिन वह समय का सही अनुमान लगा पाये और उनकी फ्लाईट मिस हो गई। इस गलती पर वे पुरे दिन अपने आप पर अफसोस करते रहे। शाम को अक्षय संयोगवश प्रमोद चक्रवर्ती के ऑफिस पहूंच गए। वहां प्रमोद चक्रवती ने बतौर हिरों फिल्म दीदार के लिए अक्षय को साईन कर लिया और उन्हे 5000 का चैक भी दिया। यहि उनकी जिंदगी का टर्निंग पाईन्ट था। यही से अक्षय के फिल्मी कैरियर की शुरूआत हुई।


वैसे पर्दे पर उनकी बतौर हिरो पहली फिल्म 1991 में सौगंध रिलीज हुई। लेकिन उसमें बड़े स्टार होने की वजह से उन्हे इसके लिए कुछ खास सराहना नही मिली। लेकिन 1992 में फिल्म खिलाड़ी ने अक्षय को सुपर स्टार बना दिया। यहि वह फिल्म है जिससे अक्षय को बॉलीवुड में पहचान मिली। इसके बाद अक्षय ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। सन 1994 में ‘मै खिलाड़ी तु अनाड़ी’ साल की सर्वश्रेष्ठ फिल्म रही। बाद में ’ये दिल्लगी’, सुहाग, एलान फिल्मों की वजह से अक्षय को बेस्ट एक्टर का अर्वाड मिला। साल 2009 में अक्षय को पदम्श्री एवं 2017 में फिल्म रूस्तम और एयरलिफ्ट के लिए उन्हे फिल्मफेयर अर्वाड से सम्मानित किया जा चुका है। अक्षय अब तक लगभग 125 फिल्मों में काम किया है।

सन 2001 में अक्षय ने ट्वीकल खन्ना से शादी की ट्वींकल खन्ना अपने जमाने के सुपर स्टार स्व. श्री राजेश खन्ना की बेटी है, अक्षय के दो बच्चे है लड़के के नाम आरव लड़की का नाम नितारा है। अक्षय एक अनुसासित व्यक्ति है और वो रोज सुबह 5 बजे उठ जाते है और रात्रि 10 बजे सो जाते है।

अक्षय एक अच्छे इंसान भी है वो हर साल अपना टैक्स समय पर पुरा देते है। उनके इस काम के लिए उन्हे कई बार अखबार में जगह मिल चुकी है। अक्षय ने हाल ही में ’टायलेट एक प्रेम कथा’ फिल्म बनाई है जो स्वच्छ भारत अभियान का हिस्सा है। अक्षय ने 2017 में एक वेबसाईट भारत के वीर, लॉन्च की है, जो सैनिकों के कल्याण के लिए बनाई गई है। इसके अलावा अक्षय समय-समय पर जनकल्याण के लिए दान करते रहते हैं।

-------------------------------------------------------------------------------
दोस्तों ये थी आज की कहानी मुझे उम्मीद है की ये आपको पसंद आयी होगी और इससे आपका आत्मविश्वाश बढ़ेगा.
अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आते है, तो हमारी मेहनत सफल है.
कृपया इस कहानी को ज्यादा से ज्यादा लाइक करे, शेयर करे और कमेंट करें. आपका बहुत बहुत धन्यवाद

2 comments:

  1. me felme shuting me Akshay ji ke sath kam kerna chaheta hu

    ReplyDelete
  2. falm shuting me kam kerna chahta hu

    ReplyDelete