वारेन बफेट - The King of Share Market

Warren Buffett Biography in Hindi
यदि आप सोचते है इस दुनिया में ईमानदारी से पैसा कमाना काफी मुश्किल है तो आज की कहानी आपको गलत साबित कर देगी आज की कहानी एक ऐसे व्यक्ति है जिसने पैसा कमाने के लिए घर-घर अखबार बांटे, किराने में काम किया, कोल्ड ड्रिंक्स की खाली बोतले बेची और पैसा इक्टठा करके उसे अपने निवेश करके ही दुनिया के सबसे अमीर आदमी बने।
Warren Buffett the king of Share Market Success Story in Hindi
King of Share Market warren buffett Wallpaper
 वारेन बफेट का जन्म 30 अगस्त, 1930 को नेबरासका ओमाहा में हुआ जो अमेरिका का हिस्सा है। उनके पिता का नाम हार्वड बफैट था। वारेन की माता का नाम लीला था। उनके पिता भी Share Broker थे। उन्ही से उनको शेयर बाजार की शुरूआती जानकारी मिली। वारेन जब 7 साल के थे तो उन्होने लाईबेरी से एक Book किराये पर लाकर पढ़ी जिससे उनका जीवन ही बदल गया। यह Book थी One Thousand Ways to Make $1000 जिसे पढ़कर वारेन का पैसा कमाने का शौक लगा। और यह शौक इतना तगड़ा था कि यह शौक आज तक भी है।

जब वारेन 11 साल के थे तो उन्होने अपना पहला Investment Share में किया। उन्होने अपनी कमाई से एक जमीन भी खरीद ली थी। पैसा कमाने के लिए वे रोज सुबह अखबार बांटते, कोल्ड ड्रिक्स की बोतल इकटठा करके बेचते थे। घर-घर जाकर मैग्जिन सप्लाई करते थे। अपने दादा की दुकान में Job भी करते थे। इसी के चलते वारेन ने कम उम्र में ही अच्छी खासी दौलत इकटठा कर ली थी। और उनकी मासिक आय भी अन्य लोगों से काफी ज्यादा थी। वारेन जब 13 साल के थे तो इस आय के कारण उनका अलग से Income Tax जमा किया। जब उन्होने अपनी स्कुली शिक्षा पुरी कर ली तो वे Business करना चाहते थे लेकिन उनके पिता ने उनको यह नहीं करने दिया और कहा कि पढ़ाई भी जरूरी है पहले Degree ले लो बाद में Business करना इसी के कारण वारेन ने कोलंबिया यूनिर्वसिटी से Degree हासिल कि और उसके बाद वे Business करने लगे। 16 साल तक उनकी बचत 9800 डालर हो चुकी जो आज की रेट में 1 लाख डॉलर है। ऐसा नहीं है कि हर बार उन्हे फायदा ही हुआ कई बार उन्हे अपने निवेश पर घाटा भी हुआ। एक उन्होने Gas Station खरीदकर घाटा उठाया।

वे अपने इस काम के लिए बैंजामिन ग्राहम को अपना गुरू मानते थे। और उनकी कुल आय में से एक बड़ा हिस्सा आज भी वे बैंजामिन ग्राहम को देते हैं। वे उनके साथ काम भी करना चाहते थे वो भी बिना Salary के लेकिन जब वे बैंजामिन से मिले तो यहुदी होने के कारण उन्होने मना कर दिया। लेकिन एक साल में ही उनका वारेन की काबिलियत का अंदाजा हो गया और 1200 डॉलर प्रतिमाह की Salary पर वारेन को Job पर रखा। वारेन ने भी 2 साल तक वहां काम किया और Share Market के गुर सिखे। 2 साल बाद बैंजामिल Retire हो गये तो वारेन ने भी अपनी नौकरी छोड़कर अपना Business चालु कर लिया। कम्पनी का नाम- था बफैट पार्टनरशिप । और उन्होने अपनी दौलत में और वृद्धि कर दी। इसके उनकी शादी हो गई और 35 साल की उम्र में उन्होने अपना पहला घर खरीदा जिसकी कीमत थी। 1958 में 31500 डालर वारेन आज भी इसी घर में रहते है जिसे उन्हाने 50 साल पहले खरीदा था।
इसके बाद वारेने ने कई कम्पनियों में Investment किया। और अपने Investment से मुनाफा कमाते रहे। सन 1981 में वारेन ने Coca-Cola में 1.2 बीलियन डालर Investment किया और वे शेयर आज भी वारेन के पास है।

सन 2008 तक आते आते वारेन दुनिया के सबसे अमीर आदमी 6200 करोड़ डॉलर बन गये। लेकिन वे ज्यादा समय तक इस मुकाम पर नही रह सके और काफी समय से वे दुनिया के तीसरे सबसे अमीर आदमी बने हुए हैं।

वारेन एक अच्छे इंसान भी है। उन्होने बिल एण्ड मिलिण्डा गेटस Foundation को 3700 करोड़ डॉलर का दान दिया है जो अब तक का सबसे बड़ा दान है वे दुनिया के सबसे बड़े दानी है। इसी के चलते वे दुनिया के तीसरे अमीर आदमी बने अगर वे ये दान नहीं करते तो वारेन की दौलत और ज्यादा होती।
इसके साथ ही उन्हाने इलन मस्क की सौलार में भी 15 बिलीयन डॉलर का Investment किया है। वारेन की कुल सम्पत्ति कुछ देशों की कुल GDP से भी ज्यादा है।

इतने पैसे होने के बावजूद वारेन को उनकी सादगी के लिए जाना जाता है। वारेन आज भी उसी घर में रहते है और आज भी उसी Office में है जो उन्होने शुरूआत में खरीदा। उन्हे महंगी गाड़ी और महंगे सामानों का शौक नहीं है। वे अपनी Car भी खुद ही चलाते हैं।
वो कहते है कि अगर आप उन चीजों को खरीदते है जिनकी आपको जरूरत नहीं है तो जल्द ही आपकों वो चीजे बेचनी पडेंगी जिनकी आपको जरूरत है।
वारेन की उम्र 85 प्लस साल की है और उन्होने अपनी सारी दौलत अपने बाद Charity के लिए दे दी है यानि उनके बाद उनकी दौलत उनके बच्चों को नहीं बल्कि Social Welfare में Use होगी।


इस कहानी को ज्यादा से ज्यादा Like, Share and Comment करके आप मेरी Help कर सकते है.

कहानी पढ़ने  के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद......

No comments